शनिवार, 6 जून 2009

पिंक पत्रकारिता पीत पत्रकारिता से भी ज़्यादा खतरनाक है

प्रभाष जी ने कहा कि गुलाबी पन्नो पर निकालने वाले अंग्रजी के अखबार इकोनोमिक टाइम्स में पैसे लेकर खबरे छापने का काम सन २००६ से चल रहा है। टाइम्स समूह ने इसके लिए मीडिया इनीशिएटिव नामक एक एक कंपनी बनाई थी। बाद में एच टी ने भी एसा ही किया। इन अखबारों ने इस चुनाव में चुनावी खबरों के कवरेज के लिए वसूलने वाली राशि के रेट कार्ड्स भी छपवाए थे।

1 टिप्पणी:

  1. विडियो के लिए धन्यवाद।

    समिति के इस ब्लॊग को देख अत्यन्त हर्ष हुआ।
    कृपया इन्हें एग्रेगेटर पर (chitthajagat.in) रजिस्टर्ड करवाएँ, ताकि पाठकों को इसका व इसकी प्रत्येक नई प्रविष्टि का स्वचालित ढंग से पता चल सके।

    उत्तर देंहटाएं